कहाँ खो गई बरगद पीपल की छाँव?
हरियाली का पर्याय रहा सम्पूर्ण उत्तर भारत कभी अपनी जीवंत संस्कृति के लिए विश्व-विख्यात रहा है। बरगद, पीपल, आम, अमरुद, जामुन, नीम, शहतूत जैसे असंख्य पेड़ों की जन्मस्थली यहां की धरती सदैव वृन्दावन के कुंजों से प्रतिस्पध्र्दा ...
 

प्रदूषण के कारण ख़तरे में है जीवन धरती पर
हमारी पृथ्वी के पर्यावरण में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण के कारण न केवल समूची मानव जाति का जीवन दांव पर लगा है बल्कि इससे धरती पर रहने वाले अन्य जीव-जन्तु विशेषकर वनों में रहने वाले वन्य-प्राणियों तथा नदियों ...

पर्यावरण प्रदूषण में सबसे ख़तरनाक है वायु-प्रदूषण
बिना भोजन के हम 22 दिन तक जिन्दा रह सकते, बगैर पानी के हम 22 घण्टे जिन्दा रह लेंगे, लेकिन बिना सांस के हम 22 मिनट भी जिन्दा नहीं बच सकते हैं। यही कारण है कि वायु को प्राणवायु की संज्ञा दी गई है। हमारे ...
 
जलवायु और जीवन को प्रभावित करते हैं महासागर
समुद्र एवं महासागर एक शानदार एवं उत्कृष्ट सुन्दरता और मानवीय जीविका के महत्त्वपूर्ण स्रोत हैं। बहुत से लोगों की आजीविका समुद्रों पर निर्भर है लेकिन इनसे उठने वाले शक्तिशाली तूफान और सुनामी भयंकर तबाही ...

WELCOME TO HAMARA BHUMANDAL

We are a part of ‘Jan-Shakti’, a non-profit, non-government organization which is engaged in different kinds of awareness programs for the ecology and environment, road-safety and traffic management, rural development & agro-marketing, education and consumer awareness. This NGO adopts all kind of genres for these awareness programs such as it hosts and arranges seminars, workshops and street plays; makes documentary & short films and publishes several magazines.

This NGO publishes 6 magazines namely- ‘Hamara Bhumandal’ (a journal on environment & ecology), ‘Watchful Consumers’ (a journal on consumer awareness), ‘Road-Sense Today’ (a journal on road-safety and traffic management), ‘Police Focus’ (a journal on Police Forces of India), ‘Sashart’ (a journal on rural development), and ‘Swantantra Vishwa Bharat’ (a journal on Education and political awakening).

कहां खो गई पीपल बरगद की छांव
– डॉ. बालकिशन शर्मा

हरियाली का पर्याय रहा सम्पूर्ण उत्तर भारत कभी अपनी जीवंत संस्कृति के लिए विश्व-विख्यात रहा है। दूध-दही के सेवन से हष्ट-पुष्ट शरीर, उन्मुक्त हँसी, सादगी और परिश्रम से भरा कृषक जीवन, यही पहचान रही है भारत के इस क्षेत्र वासियों की। यहां के जीवन में उद्दाम मस्ती एवं अनूठा रस घोलने का सर्वाधिक श्रेय प्रकृति माँ को है जिसने वरदान रुप में इस क्षेत्र को पेड़-पौधों की अपार समृद्धि में संजोया है। बरगद, पीपल, आम, अमरुद, जामुन, नीम, शहतूत जैसे असंख्य पेड़ों की जन्मस्थली यहां की धरती सदैव वृन्दावन के कुंजों से प्रतिस्पजर्धा को उत्सुक रही है।

Read more…..

8

देश में करोड़ों लोग भूखे फिर भी भोजन की बर्बादी क्यों?

यह कितनी बड़ी विडम्बना है कि झूठी शान-शौकत और जागरूकता के अभाव में पौष्टिक एवं अच्छे भोजन को हम लोग ...
Read More
7

पर्यावरण रक्षक है जैविक खेती

स्वतन्त्रता प्राप्ति के समय हमारे देश में अनेक वस्तुओं का विदेशों से आयात किया जाता था। उस समय हमारा देश ...
Read More
6

कहाँ खो गई बरगद पीपल की छाँव?

हरियाली का पर्याय रहा सम्पूर्ण उत्तर भारत कभी अपनी जीवंत संस्कृति के लिए विश्व-विख्यात रहा है। दूध-दही के सेवन से ...
Read More
5

मारकंडा और घग्घर में अब पानी की जगह है हिमाचल का कचरा

सदियों से धार्मिक आस्था का प्रतीक रहीं मारकण्डा और घग्घर नदियां हिमाचल प्रदेश के 'काला अम्ब', 'नालागढ़ तथा बद्दी-बरोटीवाला' औद्योगिक ...
Read More